reflectivediary.com
विद्यालय – एक वैकल्पिक नज़रिया
विद्यालय – एक वैकल्पिक नज़रिया फिज़ा प्रियंवदा के कंधे पर चढ़ी हुई है| तोइबा और ज्योति रस्सी उच्छाल रही हैं, अमन बीच में कूद रहा है| कुछ बच्चे मैदान के एक कोने में पड़े एक कूड़े दान में से कुछ ढूँ…