poshampa.org
व्यंग्य: 'भेड़-भेड़िये, भाई-भाई!' - रामनारायण उपाध्याय - पोषम पा
Hindi Vyangya: 'Bhed-Bhediye, Bhai-Bhai' by Ramnarayan Upadhyay. बोले - कहानी कहो। कहा - कहानी सुनो, एक था राजा। बोले - राजाओं की कहानी हमें नहीं सुननी है, वे तो इतिहास की वस्‍तु बन चुके। कहा - एक था मंत्री। बोले - मंत्रियों का क्‍या भरोसा, अनेक बार कहानी समाप्‍त होने के पूर्व ही वे अपने स्‍थान से बदल जाते हैं। कहा - ..