newscircle.in
महाशिवरात्रि: अपने मन की इच्छा के अनुसार करें मंत्रों का जाप, पूरे होंगे सभी काम
महाशिवरात्रि के चार पहरों में चार बार पृथक-पृथक पूजा का विधान भी शास्त्रों में बतलाया गया है। चंदन, पुष्प, बिल्व पत्र, धूप-दीप, नैवेद्य, सुगंध, पंचामृत (दूध, दही, घी, शक्कर व शहद) पंचानंद आदि द्वारा चारों पहरों की पूजा करनी चाहिए। पूजन के साथ-साथ मंत्र जाप भी किया जाए तो देवों के देव महादेव जल्दी प्रसन्न होते हैं। अपने मन की…