midnightdiary.in
Mere Kadam | Amrit
अब तो उठकर ये कदम मेरे ठहर जाते है रास्ते सारे ही तन्हा तेरे घर जाते है, खौफ है अब हमें अंधेरे का कुछ इतना के परछाई भी दिख जाए तो सिहर जाते है, एकContinue reading