midnightdiary.in
इंतजार उस पल का | उपासना पाण्डेय
मेरी डायरी का पन्ने का हिस्सा-‘इंतजार’ तुम जब भी रूठने की कोशिश करते हो मैं तुम्हे आवाज देती हूँ, ‘राजीव’ सुनो न जब भी उससे ऐसे बोलती हूँ तो, वो पलटकर मुस्कुरा देता है जैसेContinue reading