mediadarbar.com
हे धनुर्धर अर्जुन, तुम शिखंडी नहीं हो..
-त्रिभुवन॥ झीलों की इस नगरी उदयपुर में कुछ लालची मुनाफाखोर आए दिन निर्दोष लोगों के जीवन को संकट में डालकर उनके चेहरों पर आंसुओं की झीलें बनाते रहते हैं। पूरा प्रशासनिक अमला असहाय होकर देखता रहता है…