hindilekhak.com
दूध के धुले लोग ... (ग़ज़ल)
दूध के धुले लोग कुछ हमसे अलग होते हैं, हाँ ! उनमें सुर -ख्वाब के पर लगे होते हैं . रहते हैं आसमां में ,ज़मीं पे कहाँ रहते हैं , तकदीर के यह चमकते सितारे होते हैं. जिनको देखकर आँखें भी चोघियाँ जाये , मत छूना इन्हें ,यह जला भी देते हैं. सर से पांव तक दूध के धुले हैं जनाब