hihindi.com
बूढ़ी तीज व्रत कथा महत्व | Boodhi Teej Vrat
Boodhi Teej Vrat: यह भादों बदी तीज हैं. इस दिन व्रत रखकर गायों का पूजन करते हैं. सात गायों के लिए सात आटे की लोई बनाकर उन्हें खिलावे, फिर स्वयं भोजन करे. बहुएं चीनी और रुपयों का बायना सासुजी के पाय लगकर उनकों देती हैं. बूढ़ी तीज व्रत | Boodhi Teej Vrat | बूढ़ी तीज की कहानी | Teej Mata Ki Kahani |