firstnews24x7.com
साहित्यम: की है कोई हसीन ख़ता हर ख़ता के साथ
बस्ती में अपनी हिंदू- मुस्लमां जो बस गए इंसां की शक्ल देखने को हम तरस गए
[object Object]