firstnews24x7.com
साहित्यम: दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
देर से गूँजतें हैं सन्नाटे जैसे हम को पुकारता है कोई।।
[object Object]