firstnews24x7.com
साहित्यम: हरिशंकर परसाई की खूबसूरत कविता, 'क्या किया आज तक क्या पाया'
जो वर्तमान ने उगल दिया उसको भविष्य ने निगल लिया
[object Object]