realshayari.com
दिल अब दिल ना रहा सरकारी दफ्तर बन गया है | Real Shayari
दिल अब दिल ना रहा सरकारी दफ्तर बन गया है