कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार में
Tell my dreams to find a new home
There’s no space left in my shattered heart
—  Bahadur Shah Zafar