amritapritam

पंख

कहीं पंख बिकते हों, तो हमें दो, परदेसी! या हमारे पास रह जाओ…