Sham-democracy

ज मै आपको एक येसे सहीद और क्रांतिकारी से मिलवाने जा रहा हु .. जिसने इस देश के लिए फासी को भी कम समझा .. और नही झुका ..
पर आज उसका परिवार काले अंग्रेजो के सामने झुक चूका है ,… घर से बेघर हो चूका है और रोटी के लिए मोहताज है … (थोडा समय लगेगा पर पूरा पढ़े )

शहीद रोशन सिंह :- जन्म:१८९२-मृत्यु:१९२७(फासी) : उत्तर प्रदेश
काकोरी काण्ड के सूत्रधार पण्डित राम प्रसाद बिस्मिल व उनके सहकारी अशफाक उल्ला खाँ के साथ १९ दिसम्बर १९२७ को फाँसी दे दी गयी। ये तीनों ही क्रान्तिकारी उत्तर प्रदेश के शहीदगढ़ कहे जाने वाले जनपद शाहजहाँपुर के रहने वाले थे।
रोशन सिंह का जन्म उत्तर प्रदेश के ख्यातिप्राप्त जनपद शाहजहाँपुर में कस्बा फतेहगंज से १० किलोमीटर दूर स्थित गाँव नबादा में २२ जनवरी १८९२ को हुआ था।
बरेली में हुए गोली-काण्ड में एक पुलिस वाले की रायफल छीनकर जबर्दस्त फायरिंग शुरू कर दी थी जिसके कारण हमलावर पुलिस को उल्टे पाँव भागना पडा। मुकदमा चला और ठाकुर रोशन सिंह को सेण्ट्रल जेल बरेली में दो साल वामशक्कत कैद (Rigorous Imprisonment) की सजा काटनी पडी थी
फासी से पहले लिखा :
“जिन्दगी जिन्दा-दिली को जान ऐ रोशन!
वरना कितने ही यहाँ रोज फना होते हैं।”
हाथ में लेकर निर्विकार भाव से फाँसी घर की ओर चल दिये। फाँसी के फन्दे को चूमा फिर जोर से तीन वार वन्दे मातरम् का उद्घोष किया और वेद-मन्त्र - “ओ३म् विश्वानि देव सवितुर दुरितानि परासुव यद भद्रम तन्नासुव” - का जाप करते हुए फन्दे से झूल गये
इलाहाबाद में नैनी स्थित मलाका जेल के फाटक पर हजारों की संख्या में स्त्री-पुरुष युवा बाल-वृद्ध एकत्र थे ठाकुर साहब के अन्तिम दर्शन करने व उनकी अन्त्येष्टि में शामिल होने के लिये। जैसे ही उनका शव जेल कर्मचारी बाहर लाये वहाँ उपस्थित सभी लोगों ने नारा लगाया - “रोशन सिंह! अमर रहें!!” भारी जुलूस की शक्ल में शवयात्रा निकली और गंगा यमुना के संगम तट पर जाकर रुकी जहाँ वैदिक रीति से उनका अन्तिम संस्कार किया गया।
{{अमर शहीद ठाकुर रोशन सिंह और उनके साथियों ने कभी सोचा न होगा कि जिस धरती को आजाद कराने के लिए वह अपने प्राणों की बलि दे रहे हैं, उसी धरती पर उनके परिजन न्याय के लिए भटकेंगे और न्याय के बजाय जिल्लत झेलेंगे। दबंगों ने अमर शहीद रोशन सिंह की प्रपौत्री को न सिर्फ बेरहमी से पीटा, बल्कि सारे गांव के सामने फायरिंग करते हुए आग भी लगा दी। पुलिस ने चार दिन बाद एसपी के आदेश पर धारा 307 के तहत रिपोर्ट तो दर्ज की, लेकिन मनमानी तहरीर पर।}}
काकोरी कांड में फांसी की सजा पाने वाले अमर शहीद ठाकुर रोशन सिंह की प्रपौत्री इंदू सिंह की ननिहाल थाना सिंधौली के पैना बुजुर्ग गांव में है। नानी ने इंदू की शादी गांव के ही धनपाल सिंह से कर दी थी। धनपाल को शराब पिला पिलाकर गांव के दबंगों ने उसकी जमीन मकान सब लिखा लिया। करीब सात साल पहले धनपाल की मौत हो गई। इंदू तीनों बच्चों के साथ सड़क पर आ गई। मेहनत मजदूरी करके वह बच्चों का पेट पालने लगी। गांव के ही भानू सिंह ने गांव से लगे अपने खेत की बोरिंग पर एक मड़ैया डलवा दी। उसी में रहकर इंदू अपने बच्चों को पाल पोस रही है। पेट पालने के लिए उसके मासूम बच्चों को भी मजदूरी करनी पड़ती है। इंदू नरेगा मजदूर है।
फिलहाल इंदू तो जैसे तैसे अपने बच्चों को पाल पोस रही थी, लेकिन गांव के दबंगों को यह रास नहीं आया। गांव के सोनू सिंह और अनुज सिंह समेत चार पांच लोगों ने सरेशाम हमला कर इंदू सिंह को बेरहमी से पीटा, फायरिंग की और इसके बाद झोपड़ी में आग लगा दी। यह नजारा सैकड़ों लोगों ने देखा। उसकी गृहस्थी जलकर खाक हो गई। पहनने को कपड़े और खाने को दाना तक नहीं बचा। वह रात में ही थाने गई, लेकिन उससे पहले ही दबंगों के पक्ष में सत्ता पक्ष के एक विधायक राममूति सिंह वर्मा का फोन आ चुका था। पुलिस ने उसे टरका दिया। पुलिस तीन दिन तक उसे टरकाती रही। चौथे दिन वह एसपी से आकर मिली। एसपी के आदेश पर पुलिस रिपोर्ट लिखी, लेकिन इंदू की दी तहरीर पर नहीं। पुलिस ने उससे सादे कागज पर अंगूठा लगवा लिया और उसी पर मनमानी तहरीर लिख ली। छह में से सिर्फ दो आरोपियों को ही नामजद किया। पुलिस ने धारा 307 लगाई, लेकिन बाद में जांच में सारी धाराएं किनारे कर दीं और एक आरोपी का शांतिभंग में चालान कर इतिश्री कर ली।उसके बच्चों के पास पहनने को कपड़े तक नहीं हैं। घर में कुछ बचा नहीं है, इसलिए परिवार गांव में इधर उधर से मांग कर खाना खा रहा है।

{अब कहने को कुछ बाकी नही है … आँखे नम है इन शहीदों का हमें गम है .}

आप जो कर सकते है करे कृपया ;
सभी पेज के संचालको से आग्रह है की अपने अपने पेज पर इस खबर को डाले और शहीद के परिवार की मदद करे ..

Thousands expected at Hong Kong pro-democracy rally

HONG KONG (AP) — Hong Kongers are set to take to the streets Wednesday to renew their call for full democracy for the Asian financial hub in a rally that follows a turbulent year of protests over political reform.

Organizers expect tens of thousands at the annual protest march, held on a public holiday marking Hong Kong’s handover from British to Chinese rule in 1997. Local media reports say some 3,000 police will be deployed.

The event comes seven months after the end of student-led protests that blocked streets in key districts for 79 days to demand free elections for the southern Chinese city’s top leader.

Wednesday’s protest march marks the start of a new, uncertain chapter in the city’s democratic development, which is now stuck in limbo after Hong Kong lawmakers voted down the government’s blueprint for inaugural elections in June. The plan had required candidates be vetted by Beijing, which activists criticized as “sham democracy” and a betrayal of Communist leaders’ promise to eventually grant the city universal suffrage.

Beijing and Hong Kong officials say future leaders will continue to be picked by a panel of mostly pro-Beijing elites and they will now focus on economic issues rather than restarting the political reform process.

“Hong Kong people now have experienced the Umbrella Movement last year and are trying to think of other more progressive ways to express their views,” said Eddie Chan, vice convener of protest organizer Civil Human Rights Front. The street protests were known as the “Umbrella Movement,” after the demonstrators’ preferred method of defending against police pepper spray.

Ahead of the rally, a small group protested outside a morning flag raising ceremony attended by Hong Kong and Beijing officials. They burned the Hong Kong flag and a picture of city’s Beijing-backed leader, Chief Executive Leung Chun-ying, and called for him to step down.

Beijing took control for the former British colony on July 1, 1997, but allowed it to keep its own financial and legal system and civil liberties unseen on the mainland, such as freedom of speech and protest. The holiday has become a traditional day to protest government policies and to call for democracy.

On July 1, 2003, more than half a million people took to the streets to protest proposed anti-subversion legislation. The size of the rally startled Beijing and led to the eventual resignation of then-leader Tung Chee-hwa.

Hong Kong rejects 'sham democracy' electoral reforms with walkout by pro-Beijing legislators

Hong Kong rejects ‘sham democracy’ electoral reforms with walkout by pro-Beijing legislators

Hong Kong’s Legislative Council has vote down of the electoral reform package today. The electoral reform package has been a hotly debated and controversial topic with the Occupy Central and Umbrella Movement protests in late 2014 rallying against the proposal. After a protracted debate in the Legislative Council, the Motion concerning the Amendment to the Method for the Selection of the Chief…

View On WordPress

Thousands expected at Hong Kong pro-democracy rally

HONG KONG (AP) — Hong Kongers are set to take to the streets Wednesday to renew their call for full democracy for the Asian financial hub in a rally that follows a turbulent year of protests over political reform.

Organizers expect tens of thousands at the annual protest march, held on a public holiday marking Hong Kong’s handover from British to Chinese rule. Local media reports say some 3,000 police will be deployed.

The event comes seven months after the end of student-led protests that blocked streets in key districts for 79 days to demand free elections for the southern Chinese city’s top leader.

Wednesday’s protest march marks the start of a new, uncertain chapter in the city’s democratic development, which is now stuck in limbo after Hong Kong lawmakers voted down the government’s blueprint for inaugural elections in June. The plan had required candidates be vetted by Beijing, which activists criticized as “sham democracy.”

Beijing and Hong Kong officials say future leaders will continue to be picked by a panel of mostly pro-Beijing elites and they will now focus on economic issues rather than restarting the political reform process.

“Hong Kong people now have experienced the Umbrella Movement last year and are trying to think of other more progressive ways to express their views” now, said Eddie Chan, vice convener of protest organizer Civil Human Rights Front. Last year’s street protests were known as the “Umbrella Movement,” after the demonstrators’ preferred method of defending against police pepper spray.

Ahead of the rally, a small group protested outside a morning flag raising ceremony attended by Hong Kong and Beijing officials. They burned the Hong Kong flag and a picture of city’s Beijing-backed leader, Leung Chun-ying, and called for him to step down.

alternet.org
16 Politicians Cashing in Thanks to Washington's Revolving Door | Alternet

“The revolving doors in Washington  spin especially quickly  after elections:  79 new members  of Congress will take their seats in January, and each one is selecting their staff. Meanwhile,  97 lawmakers  have retired, resigned or lost their bids for reelection, and they — and their staff — are looking for work. Politicians are barred, by law, from lobbying their former colleagues within  one or two years of leaving the Hill  — but the law doesn’t prevent them from making introductions and opening doors for lobbyists in their new jobs. Here’s a look at some lawmakers and lobbyists who’ve made the switch from Capitol Hill to K Street, and vice versa, in the recent past.”