कुंडली मे भाव कैसे देखें.... https://www.gatyatmakjyotish.com/2022/02/kundli-me-bhav-kaise-dekhe.html?m=1 #kundlikebhav https://www.instagram.com/p/CZuNOlvM66x/?utm_medium=tumblr

https://www.gatyatmakjyotish.com/2021/03/About%20Krishna%20in%20Hindi.html?m=1 https://www.instagram.com/p/CSdktMWH785/?utm_medium=tumblr

https://www.gatyatmakjyotish.com/2021/07/samay%20kitna%20ho%20raha%20hai%20.html?m=1 https://www.instagram.com/p/CSa7VrAHiWF/?utm_medium=tumblr

Astrology status for WhatsApp in Hindi गत्यात्मक ज्योतिष के विकास के बाद ज्योतिष शास्त्र के बारे में निम्न बातें कही जा सकती हैं :------ भगवान दरअसल ब्रह्मांडीय महाशक्ति है, जिसे ज्योतिष शास्त्र के द्वारा ही समझा जा सकता है।  जिस समय कल्प , व्याकरण , छन्द , निरुक्त आदि महज कुछ ही विधा थी , फलित ज्योतिष को वेदों का नेत्र कहा जाता था। लोगों को भविष्य को लेकर दिलचस्पी बनी रहती है, इसलिए भविष्य के विश्लेषण की अनेक विधियां प्रचलित हैं , पर एस्ट्रोलॉजी, यानि ज्योतिष, भविष्य को समझने की सबसे सटीक और वैज्ञानिक विधि है।  पूरा पढ़ने के लिए नीचे दिए गए url को कॉपी करके ब्राउज़र में पेस्ट करें! https://www.gatyatmakjyotish.com/2021/02/astrology-status-for-whatsapp.html?m=1 #AstrologystatusforWhatsApp, #Astrologyquotes, #QuotesonAstrology https://www.instagram.com/p/CL6tiyfngH5/?igshid=l8v2j7w739sd

ब्‍यूटी पार्लर आरंभ करने जा रही मेरी भांजी ने शायद पंडित या ज्‍योतिषी को भगवान ही समझ लिया , तभी तो उसने अपनी दुकान खोलने के लिए मुझे एक ऐसा मुहूर्त्‍त देखने को कहा , जिसमें खोलने पर उसकी दुकान में घाटे का कोई सवाल ही नहीं हो। ज्‍योतिष की सहायता से कोई दुकान खोलने या न खोलने या देर सवेर करने की सलाह दी जा सकती है , पर शकुन और मुहूर्त्‍त पर तो गत्‍यात्‍मक ज्‍योतिष बिल्‍कुल विश्‍वास नहीं करता , कई दिन पूर्व इसपर पापा जी के द्वारा एक पोस्‍ट भी किया जा चुका है , मुझे इस सोंच पर अचंभा हुआ। पूरा पढ़ने के लिए नीचे दिए गए url को कॉपी करके ब्राउज़र में पेस्ट करो :- https://www.gatyatmakjyotish.com/2021/02/bhaskaracharya%20.html?m=1 https://www.instagram.com/p/CL6Be5BnxMo/?igshid=odxoryrttvbj

इतने लंबे विकास के क्रम के बावजूद मानव जीवन में मनोवैज्ञानिक रूप से कमजोर लोगों के मन में भय के उपस्थित होने के कारण समाज में कई प्रकार की बुरी मान्‍यताएं , बुरी प्रथाएं आती जाती रही , ये तो विभिन्‍न उदाहरणों और कहानियों द्वारा हमारे सामने रखी जाती हैं , जिसे दूर करने के लिए समय समय पर हमारे समाजसेवियों ने संघर्ष भी किया , कई दूर भी हुईं , फिर भी आज भी कई मान्‍यताएं अच्‍छे और बुरे रूप में समाज में मौजूद हैं , इसे स्‍वीकारने में मुझे कोई आपत्ति नहीं।  पूरा पढ़ने के लिए नीचे लिखें लिंक को कॉपी करके ब्राउज़र में पोस्ट करें! https://www.gatyatmakjyotish.com/2020/04/jyotish-shastra-free.html?m=1 https://www.instagram.com/p/CLrjCJ4DNP4/?igshid=1m1the5rpll7z

हिन्दू परिवारों में माना जाता है कि ग्रहो और खगोलीय पिंड का हमारे जीवन पर अच्छा खासा प्रभाव पड़ता है इसलिए वर-वधु के भाग्य की अनुकूलता को देखने के लिए विवाह के पूर्व कुंडली मिलान आवश्यक माना जाता है , ताकि विवाह के बाद जोड़े का दांपत्य जीवन कुशल-मंगल से कट सके।  पूरा पढ़ने के लिए नीचे के लिंक को कॉपी करके ब्राउज़र में पेस्ट करें! https://www.gatyatmakjyotish.com/2020/04/kundali-matching-by-name-and-date-of.html?m=1 https://www.instagram.com/p/CLriO97DOW1/?igshid=1v8ay0yji571i

प्राचीन काल में अभिभावक पढ़े लिखे नहीं होते थे, इसलिए बच्चों का जन्मसमय उन्हें याद नहीं रहता था। पूरी कुंडली खो भी जाये तो बच्चे की राशि और नक्षत्र याद रहे, इसलिए पंडित बच्चों के नक्षत्र आधारित नाम रख दिया करते थे। निम्न राशियों के नक्षत्रों के विभिन्न चरणों के लिए अक्षरों से नाम की शुरुआत होती थी :------ #astrologyinhindibyname, #anamewalonkirashi, #janamkundlibydateofbirthonlyinhindi, #janmnakshatra, #naamsejanenakshatra, #nakshatrafalinhindi, #janmrashinaamakshar, #बच्चोंकेनक्षत्रआधारितनाम https://www.instagram.com/p/CLo0dndnyVj/?igshid=lnkiec5ptni5

कोई व्यक्ति जन्म से ही मजबूत शरीर , व्यक्तित्व , धन , गुण , स्वभाव ,परिस्थितियॉ और साधन प्राप्त करता है और कोई जीवनभर यह सब प्राप्त करने के लिए आहें भरता है और कोई कई प्रकार की शारिरिक और मानसिक विकृतियों को लेकर ही जन्म लेता है। जरा सोंचिए , इसको किसका प्रभाव कहा जा सकता है ? जिसे वैज्ञानिक वर्ग संयोग या दुर्योग कहते हैं , वह प्रकृति की एक सोंची समझी हुई चाल होती है! #AstrologyinHindi https://www.instagram.com/p/CLoz5_ZHJp5/?igshid=bkp67adfzm6l

चंद्रमा पृथ्‍वी का निकटतम ग्रह है और इस कारण इसका प्रभाव पृथ्‍वी पर सर्वाधिक पडता है। समुद्र में ज्‍वार भाटे का आना इसका सबसे बडा उदाहरण है। मनुष्‍य के जीवन को भी यह बहुत अधिक प्रभावित करता है। य‍ह मानव मन का प्रतीक ग्रह है , इसलिए यह जिस भाव का स्‍वामी होता है या जिस भाव में स्थित होता है , वहीं जातक का सर्वाधिक ध्‍यान होता है।  #moonchildastrology, #chandramakaprabhav, #chandramakaprabhavinhindi, #kundalimechandramakaprabhav, #चंद्रमाकाप्रभाव, #कुंडलीमेंचंद्रमाकाप्रभाव, #चंद्रमाकामानवजीवनपरप्रभाव, #chandramainhindi, https://www.instagram.com/p/CLozeUnH-rc/?igshid=urk0bevxleni